“दोस्तों आज हम भारत में रहने वाली ऐसी महिला के बारे में बात करेंगे जो समाज में होने वाली समस्या को एक आईने की तरह अपने वीडियो ब्लॉग के जरिये सभी तक पहुँचती है और बाइक चलाने के शौक की वजह से अपना नाम दुनिया में बाइकर्स के तौर पर शामिल कर रही हैं।”

केरल की महिला बाइकर जो वीडियो ब्लॉगिंग के माध्यम से कर रही आम लोगो की मदद।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog  आज हम बात करेंगे बाइकर और वीडियो ब्लॉगर जीनिशा बशीर की जो केरल के अलाप्पुझा की एक पूर्व Software Engineer है। जिन्होंने बाइक चलाने का निर्णय लिया परंतु लोगों ने इसमें कोई अलग प्रतिक्रिया नहीं दिखाई क्योंकि आजकल महिलाएं ऑटो से लेकर हवाई जहाज और ट्रेन से लेकर समुद्री जहाज भी चलाने लगी हैं। बता दे कि जीनिशा एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के साथ साथ एक वीडियो ब्लॉगर भी हैं।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog

जिनिशा के द्वारा समाजहित में।

जीनिशा शब्दों का बहुत ही सटीकता के साथ अपने वीडियो ब्लॉग में इस्तेमाल करती हैं। जीनिशा के द्वारा किये गए काम से बहुत लोग प्रभावित होते है। जिसके कारण लोगों ने उनका वीडियो शेयर कर वायरल कर दिया। दिन प्रतिदिन की परेशानियों का सामना कर रहे लोगो की मदद करती है। जरूरतमंद आम लोगो के लिए दान करने को प्रेरित करती है। साथ ही वह बेरोजगार व्यक्तियों के लिए रोजगार के अवसरों के बारे में जानकारी देती है। समाज में जीनिशा के द्वारा यह काम समाज के लिए बहुत ही फायदेमंद है।

शुरुवाती प्रेरणा।

जिनिशा से जब ये बात पूछी गई की यह सब करने की प्रेरणा आप को कहा से मिली तब इस बात का जवाब देते हुए वह कहती है, एक दिन जब वह अपनी बाइक में पेट्रोल डलवाने पेट्रोल पंप गयीं तब वहां उन्होंने देखा कि पेट्रोल वाली मशीन में कुछ तो गड़बड़ है जिससे कर्मचारी पूरे पैसे लेकर गाड़ियों और बाइकों में कम पेट्रोल डाल रहे है और वह भी गलत तरीके से। वह समझ गई कि पेट्रोल पंप की मशीन में कुछ गड़बड़ है जिससे वह आम पब्लिक से पैसे पूरे लेकर कम पेट्रोल भरकर उन्हें सरेआम लूट रहा है।

तब उन्होंने उस कर्मचारी और पेट्रोल पंप के मैनेजर से बात की तो वे बोले कि यह सब आम बात है। कृपया शांति से आप अपना काम करें। यह काफी लंबे समय से चलता आ रहा है और आम पब्लिक इस बात को अच्छी तरह से जानती हैं। तब उन्होंने अपने वीडियो और सोशल मीडिया के द्वारा संपूर्ण भारत और सरकार को इस बार इस बार से अवगत कराने का फैसला किया।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल किया 

जिनिशा ने अपने मोबाइल से पेट्रोल पंप का ये करतूत वीडियो में रिकॉर्ड कर ली और वीडियो को इंटरनेट पर फेसबुक में अपलोड कर दिया। जिनिशा ने जनता से इस बात को लेकर सवाल किया कि वे ऐसी घटना को देखकर खामोश क्यों रहते हैं। उन सभी व्यक्तियों को मिलकर इस बात को लेकर मुद्दा उठाना चाहिए। जिनिशा के वीडियो जिसे सिर्फ केरल में ही करीब 5,000 लोगों के द्वारा लाइक किया गया।

उसके बाद जिनिशा ने जनता की मदद के लिए ऐसी और घटनाओं का वीडियो बनाकर पोस्ट किया। जिससे ऐसे वीडियो जल्द ही पूरे भारत में वायरल हो गए और एक महीने में ही लगभग एक लाख से अधिक उनके फॉलोवर्स आ गए। इनके बनाये वीडियो से लोगो में जागरूकता आने लगी और ऐसी घटनाओ पर रोकथाम भी साथ के साथ लगने लगी।

Read more: पटना की सड़कों में ठेला लगाकर पकौड़े बेचने वाला बना करोड़पति ज्वेलर्स।

सोशल मीडिया पर आरोप भी।

आपको यह भी बता दें कि जीनिशा की बाइक रॉयल एनफील्ड बुलेट है। जिसे वह स्वयं चलाकर बाइकर्स बनी। साथ ही वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर के साथ साथ एक फुल टाइम वीडियो ब्लॉगर भी हैं। जीनिशा का प्रत्येक दिन का एक उद्देश्य होता है और उस उद्देश्य के लिए ही वह अपना जीवन बिताती हैं। वह शुरू से ऐसे ही मुद्दों को लेकर मीडिया में हमेशा चर्चा में रहती हैं जिन पर आम जनता और सरकार दोनों को ही ध्यान देना जरूरी होता है।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog

जिनिशा ने अपने विश्वास और दृढ़ निश्चय के साथ लोगों के नकारात्मकता को खत्म करके उन्हें जागरूक बनाने का निर्णय लिया। उन्होंने कई मुश्किल और कठिनाइयों को नजदीक से देखा है।

उन्होंने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि अपने सोशल मीडिया में वीडियो ब्लॉग बनाने पर कई लोग नाराजगी जाहिर करते है और ऐसे आरोप भी लगते है जैसे, ‘वह अपने आप को समाज में एक सेलिब्रिटी की तरह बनना चाहती है।’ उन्होंने ऐसे आरोपों को नजरअंदाज करते हुए कहा की उन्हें अपने जीवन का उद्देश्य पता है कि उन्हें क्या करना है। मेरे सोशल मीडिया पर वीडियो बनाकर लोगों को जागरूक करने की वजह से कई लोग उनके खिलाफ हो गए थे।

लोगों ने उनके बुलेट बाइक चलाने पर भी कमेंट किये है। जीनिशा के वीडियो के द्वारा लोग जागरुक होने के साथ-साथ उनकी समझ में आ रहा था की क्या गलत है और क्या सही। कई लोग तो उनके इस काम की भी निंदा करते थे जबकि उनके बनाए हुए वीडियो से किसी भी व्यक्ति को हानि नहीं हुई है। इसका कारण यह है कि जीनिशा एक महिला होकर सभी लोगों के बीच बाइक चलाकर समाज के नियमों की बंदिश को तोड़ने का काम कर रही हैं जिसे कुछ लोग बर्दाश्त नहीं कर पा रहे है।

 

परिवार का सपोर्ट।

शुरू-शुरू में उनके परिवार वाले भी सभी लोगों के सामने बाइक चलाना पसंद नहीं किया करते थे। जिनमें उनकी मां और बहन भी शामिल थी पर उनके पूर्व सैनिक पिता और उनके पति शुरू से ही उन्हीं के पक्ष में थे।

उनके पूर्व सैनिक पिता ने उनको बताया कि अपनी जिंदगी में जो भी काम करना है या भविष्य में जो भी काम करना होगा उसमें हमेशा से पहले से ही विचार कर लो और उस काम को अपने पूर्ण विश्वास और लगन के साथ पूरा करो।

उनके पति फैजल जो पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं उन्होंने जिनिशा के किए गए कार्यों को देखकर अपनी भी सहमति दी है। उनके पिताजी और उनके पति फैजल ने उनको बिना किसी के डर से अपनी जिंदगी बिताने के लिए कहा हैं। जिनिशा बताती है की उन्हें शुरू से ही निडर रहना सिखाया है।

जीनिशा कहती हैं कि वह अब वह खुश है क्योकि उनके बनाए हुए वीडियो ब्लॉग के जरिए लाखों व्यक्तियों की जान और माल दोनों को ही बचाया जा चुका है उन्हें इस काम से आत्म संतुष्टि मिलती है। जहां लोगों की उम्मीदें खत्म हो जाती हैं जीनिशा के वीडियो उन्हें जीने की नई राह दिखाती है।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog

जिनिशा के वीडियो ब्लॉगिंग से मदद।

स्वर्गीय शान शाहुल:

उन्होंने अपने वीडियो के द्वारा एक मामले को भी जनता के बीच उजागर किया जिसमें स्वर्गीय शान शाहुल के गल्फ देश जाने के अचानक 25 दिन के बाद ही उनकी मौत हो गई। इस घटना से उनके परिवार वाले एकदम से टूट गए। तब जीनिशा ने उनके परिवार वालो की जो उनकी मृत्यु से गमगीन होकर परेशानी में थे, उनका और उस घटना का वीडियो बनाकर अपने You Tube चैनल में अपलोड कर दिया। जब सऊदी अरब के अल खसिम, एनआरआई ग्रुप की नजर इस वीडियो पर पड़ी तब उन्होंने शान शाहुल के परिवार को 11 लाख रुपए दान में दे दिये।

मलप्पुरम की आयशा :

ऐसा ही एक दूसरे वीडियो में जिसने मलप्पुरम की रहने वाली 1 वर्ष की आयशा की दर्द भरी कहानी को दिखाया। आयशा को बोन मैरो प्रत्यारण (bone marrow transplant) करवाने के लिए बहुत सारे पैसों की जरूरत थी। इस वीडियो को YouTube में अपलोड हो जाने के बाद 1 महीने में इतना वायरल हो गया कि उसके परिवार वालों को 30 लाख रुपए चंदे में मिल गए और आयशा का समय पर इलाज संभव हो सका।

कोझिकोड का मुनीर :

एक और मामले में केरल के कोझिकोड का रहने वाला मुनीर बुरे वक्त से अपना समय काट रहा था। उसके पास ना तो रहने के लिए घर था और ना ही अपनी जीविका चलाने के लिए कोई रोजगार। उसकी तीन बेटियां भी थी जो शादी के योग्य हो चुकी थी। वह हमेशा इस बात से परेशानी में रहता था कि भविष्य में उसके और तीन बेटियों के साथ क्या होगा। तब जीनिशा ने उनकी सहायता करने का निर्णय लिया।

जीनिशा ने अपने वीडियो के द्वारा मुनीर के रहने के लिए घर बनवाने की व्यवस्था करने के लिए लोगों से अपील की और दयालु लोगो से दहेज के बिना उसकी बेटियों की शादी के बारे में भी लोगों से अपील की। इस वीडियो को देखने के बाद लोगों पर ऐसा प्रभाव पड़ा कि मुनीर की एक बेटी की शादी हो गई है और दूसरी बेटी की इंगेजमेंट भी हो चुकी है और मुनीर को उसका घर बनवाने के लिए 4 लाख रुपए की राशि दान स्वरूप मिली, जीविका के लिए रोजगार की व्यवस्था भी कर दी गई।

jinsha basheer the woman biker which helps the people by the video blog

परेशानियों को नजरअंदाज करना।

जीनिशा बताती हैं कि उनके वीडियो के द्वारा लोगों की भलाई करने के बाद भी उनके अपने करीबी लोग और समाज में कई तरह की परेशानियों से गुजरना पड़ता है पर जीनिशा सीधे तौर पर यह भी कहती हैं कि वह इन सभी परेशानियों को नजरअंदाज कर देती हैं।

सभी धर्म में भी यही सिखाया जाता है कि समाज की भलाई एक पुरुष ही नहीं बल्कि एक महिला भी कर सकती है।  जिसमें महिलाओं के बारे में किसी भी प्रकार का कोई बंधन नहीं रखा गया है। अब सोशल मीडिया पर जीनिशा के 3.8 लाख फॉलोअर्स के साथ उन्हें आज किसी प्रचार की आवश्यकता नहीं रह गई है। उनके मुताबिक अच्छे कार्य को देखने के बाद उनके फॉलोवर्स एकदम से बढ़ जाएंगे परंतु उन्होंने इस बात को स्पष्ट किया है उनके लिए जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए प्राथमिकता पहले हैं।

Read more: 14 बार फेल होने के बावजूद भी खड़ी की 3 दोस्तों ने ShareChat कंपनी।

आज जिनिशा ने जो सोशल मीडिया के जरिए जरूरतमंद लोगों की मदद की है वह काबिले तारीफ है। परंतु कुछ विरोधी दलों ने उनके इस काम की खुलकर निंदा भी की है। हम सभी जानते है जहा समाज में अच्छे लोग होते है वहाँ समाज में गलत लोग भी होते है जो केवल इस बात से नाराज है की कैसे एक महिला पुरुषो की बराबरी कर सकती है उनसे आगे जा सकती है। खैर अच्छे लोगो के लिए रास्ते कभी बंद नहीं होते है वह हमेशा किसी अच्छे मकसद के साथ ही आगे बढ़ते जाते है।

 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप अपने गाँव, शहर या इलाके की प्रेरणात्मक वीडियो हमें 6397028929 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं!


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here