“दोस्तों हम सभी अपनी जिंदगी में हमेशा कोई न कोई सफलता की कहानियाँ तो जरूर पड़ते होंगे परन्तु क्या हम अपनी सफलता के लिए कोई प्रयास करते है। और यदि करते भी है तो क्या हम मंजिलो तक पहुंच पाते है। सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता है। जिनको सफलता पाने की चाह होती है वह अपनी मंजिलो को पाने के लिए दृढ निश्चय से लगातार परिश्रम करता जाता है और फिर एक दिन ऐसा आता जब सफलता आपके कदम चूमने लगती है।”

मोबाइल रिपेयरिंग स्टॉल से शुरू कर बनाई 150 करोड़ का टर्नओवर करने वाली कंपनी।

success story yuvraj aman singh rockingdeals : ऐसी ही हमारी सफलताओ की लिस्ट में एक व्यकित का नाम शामिल है जिन्होंने नामुमकिन को मुमकिन बनाने का काम किया। जिनका नाम है, युवराज अमन सिंह जो कि आज एक बड़े बिजनेसमैन हैं।

मोबाइल रिपेयरिंग स्टॉल से शुरू कर बनाई 150 करोड़ का टर्नओवर करने वाली कंपनी।

इन्होने अपने काम की शुरुवात दक्षिण दिल्ली में मोबाइल शोरूम के बाहर एक छोटा सा स्टॉल लगाकर मोबाइल रिपेयरिंग के काम से की थी। मोबाइल रिपेयरिंग से एक बड़ी कंपनी का निर्माण करने में इनको बहुत कठिनाओ का सामना करना पड़ा। जिसकी बदौलत इनकी कंपनी का आज सालाना टर्नओवर डेढ़ सौ करोड़ रुपए तक पहुंचा गया है।

दक्षिण दिल्ली के बिजनेसमैन युवराज अमन सिंह जिन्होंने कभी एक छोटा सा स्टॉल लगाकर मोबाइल रिपेयरिंग का काम करते थे। आज करोड़ो का टर्नओवर वाली कंपनी में बदल दिया। सच ही कहा गया है कि जो लोग कोशिश नहीं करते हैं और मेहनत से घबरा जाते हैं वे जिंदगी में कभी भी और कहीं भी सफल नहीं हो पाते।

Read more: मुंबई की झुग्गी बस्ती से निकलकर बने वैज्ञानिक प्रथमेश हिरवे की कठिन परिश्रम की कहानी।

मोबाइल रिपेयरिंग के काम से शुरू की शुरुवात।

उन्होंने अमेरिका के मिड्डलसेस से बिजनेस इंफॉर्मेशन सिस्टम एंड मैनेजमेंट की पढ़ाई पूरी की और इंग्लैंड में अपनी पत्नी तथा भाई के साथ कई कंपनियों में साथ काम किया। वर्ष 2003 में भारत आने के बाद उन्होंने “Tata Teleservices” की फ्रेंचाइजी ली परन्तु काफी समय तक कोई मुनाफा न होने व लगातार होते जा रहे घाटे की वजह से इन्होने ये काम भी छोड़ दिया।

कुछ सालों बाद सोनी एरिक्सन कंपनी में जानकारी रखने वाले कर्मचारी के कहने पर इन्होने Sony Ericsson Showroom के बाहर एक छोटा सा टेबल कुर्सी का स्टॉल लगाकर सैकेंड हैंड और ख़राब मोबाइल फोन रिपेयरिंग का काम शुरू कर दिया। जब उन्होंने ये काम शुरू किया तब उन्हें खुद ही पता नहीं होगा कि यह काम जल्द ही चल जाएगा और एक कंपनी का रूप ले लेगा। जिसका सालाना टर्नओवर 150 करोड़ रुपए होगा।

मोबाइल रिपेयरिंग स्टॉल से शुरू कर बनाई 150 करोड़ का टर्नओवर करने वाली कंपनी।

बड़े ब्रांड के फोन रिपेयर कर कम कीमत में बेचना

वह जल्द ही Apple, Samsung, Sony, Nokia, HTC, Blackberry जैसी नामी कंपनियों के वापस आये हुए फोन, New Unbox फोन और सैकेंड हैंड मोबाइल फोन खरीद कर उन्हें रिपेयर करके अपने ग्राहकों को 40% कम के मूल्य पर बेचना शुरू कर दिया। अब अमन सिंह को इस काम से कुछ फायदा होने लगा था। यहाँ पर उनकी मेहनत रंग लाई। मोबाइल फोन ठीक करते-करते अब उन्हें बहुत सी बारीकियो का ज्ञान भी हो गया था |

कुछ ही समय में दक्षिण दिल्ली में एक ऑफिस बनाया जहां से वह कई तरह के मोबाइल रिपेयर कर के ऑनलाइन अपने कस्टमर को बेचने का काम किया करते थे। वही से उन्होंने अपनी कंपनी की नींव रखी। जिसका नाम रॉकिंग डील्स ( Rockingdeals ) रखा। जिसमे प्रमाणित करके वह मोबाइल फोनो को 3 महीने से लेकर 1 साल की वारंटी के साथ ऑनलाइन बेचा करते थे। जिससे उन्हें जल्द ही बड़ा प्रॉफिट होने लगा।

वे सिर्फ और सिर्फ वारंटी वाले ही फोन ठीक करते थे। उन्होंने 1 साल में लगभग 50 हजार मोबाइल फोन रिपेयर कर के उनको बेच दिया। जिससे उनको काफी मात्रा में प्रॉफिट हुआ।

Read more:(क्लीन सिटी-क्लीन इंडिया) अनोखी पहल रेलवे में गन्ने के अवशेषों से बनी प्लेटो का होगा उपयोग।

मोबाइल के अलावा अन्य एक्सेसरीज भी।

फिर उन्होंने नोएडा में भी अपनी कंपनी की फैक्ट्री की शुरुवात कर दी। जल्द ही उनकी कंपनी टैबलेट, पावर बैंक और मोबाइल के अन्य एक्सेसरीज भी बेचने लगी। मोबाइल को रिपेयर करने में डिस्प्ले, साऊंड, की टच, पोर्ट और कैमरा और हार्डवेयर को भी चैक किया जाता है।

मोबाइल रिपेयरिंग स्टॉल से शुरू कर बनाई 150 करोड़ का टर्नओवर करने वाली कंपनी।

उनकी कंपनी के सभी सदस्यों की मेहनत से कंपनी का पहले ही वर्ष में लाखो का टर्नओवर रहा। उनकी कंपनी ने साल 2008 में Samsung कंपनी के साथ टायअप करके उसके पुराने फोन खरीद कर और उनको ठीक कर के ऑनलाइन मार्केट (Flipkart, Amazon, Snapdeal, Quikr, Zopper और Junglee) माध्यम से ग्राहकों को बेचा, जिससे उनकी कंपनी को 20 करोड़ का मुनाफा हुआ।

अमेरिका में भी कंपनी की नींव 

नोएडा स्थित फैक्ट्री से यह इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम को रिपेयर कर के विदेशों में एक्सपोर्ट करने का काम करती थी। जल्द ही उन्होंने अमेरिका में भी अपनी कंपनी की नींव रखी। यदि वे केवल लंदन या अमेरिका मैं रह जाते तो शायद अमन सिंह कभी इतना बड़ा मुकाम हासिल नहीं कर पाते। इस कंपनी में ग्राहकों को संतुष्ट करने के साथ-साथ लोगों को भी रोजगार मिला।

आज के आधुनिक समय में स्मार्टफोन और टैबलेट को ठीक करना कितना मुश्किल है। जो केवल वही ठीक कर सकते थे जो उसके बारे में अच्छे से जानते थे। युवराज अमन सिंह उनमें से एक थे। एप्पल जैसे फोन यदि गलती से भी गिरकर टूट फूट जाए तो उसके ठीक होना शायद ही मुमकिन हो परंतु एक्स्ट्राऑर्डिनरी व्यक्ति के लिए यह व्यापार बन जाता है।

Read more: मात्र 8000 रुपये की नौकरी को छोड़ लखपति बने लखन सिंह सेमिल ( Lakhan Singh Semil )

मोबाइल को रिपेरिंग से शुरुवात करने वाले अमन सिंह ने ये साबित कर के दिखा दिया है, की किसी भी व्यक्ति के लिए शायद ही कोई काम नामुमकिन हो। आज उनकी कंपनी का टर्नओवर 150 करोड़ से ऊपर है। उन्होंने अपने बिजनिस को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिका में भी कंपनी की शाखा की नीव रखी है तथा और भी देशो में जल्द ही अपनी कंपनी को फैलाने का विचार कर रहे है।

 


युवराज अमन सिंह की कंपनी के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप इनकी वेबसाइट www.rockingdeals.in पर जा सकते है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप अपने गाँव, शहर या इलाके की प्रेरणात्मक वीडियो हमें 6397028929 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं!


 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here