आज हम ऐसे Startup के बारे में आप को बताने जा रहे है जो सूरत शहर मे आधारित स्टार्टअप एक्स वाय एक्स एक्स (XYXX)  है। जो एक ऑनलाइन मेन्स अंडरवियर ब्रैंड है। सूरत में स्थित फैबि्रक का व्यवसाय करने वाले योगेश काबरा जी इस ब्रांड के संस्थापक हैं। ये अपनी कंपनी के लिए पूरे भारत से फैब्रिक का सामान खरीद कर Surat व उसके आसपास की जगहों मैं अपने ग्राहकों को बेचती है। उन्होंने अपनी कंपनी की Startup करने की शुरुआत 2017 में अपने पिताजी के ऑफिस से की थी। सूरत में स्थित स्टार्टअप करने वाली  “xyxx”  के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं जो कि एक पुरुष वर्ग के लिए एक अच्छा व कंफर्ट अंडरवियर ब्रांड Underwear Brand है।

सूरत के इस स्टार्टअप को जानकर अंडरवियर शॉपिंग के बारे में बदलेगी आपकी सोच।

Surat underwear startup: योगेश काबरा जो कि इस ब्रांड के संस्थापक हैं उन्होंने इस स्टार्टअप की शुरुआत 2017 में की थी। एक दिन उन्होंने अपने एक करीबी दोस्त से पूछा कि पुरुष वर्ग के लिए सबसे बेहतर उपहार क्या हो सकता है। उसके दोस्त ने बिना समय नष्ट किए हुए जवाब दिया अंडर गारमेंट्स।

हमारे और आपके पास इसकी अक्सर कमी रहती है या तो इनको फाड़ देते हैं या खो देते हैं या फिर हम इसका लंबे समय तक उपयोग करते रहते हैं। उन्होंने इस बात का खुलासा करते हुए कहा कि ऐसा सिर्फ उनके या उनके करीबी दोस्तों के साथ ही नहीं होता बल्कि अधिकतर पुरुषों के साथ होता है।

“British Multinational Retailer Debenhams” की रिपोर्ट के अनुसार, जब पुरुष वर्ग रिलेशनशिप में होता है या रिलेशनशिप शुरू करने वाला होता है तब ही नए नए अंडरवियर खरीदता है योगेश काबरा ने इस रिपोर्ट पर अपनी सहमति देते हुए कहा कि, हमें मार्केट में सर्वे करने पर ज्ञात हुआ कि इस सेगमेंट में पुरुषों के लिए विकल्पों की बहुत अधिक कमी है जिसके कारण उन्हें कंफर्ट के साथ समझौता करना पड़ता है जहां कंफर्ट पर पूरा ध्यान रखा जाता है वहां पर वैरायटी के मूल्य बढ़ जाते हैं।

USA से पढ़ाई करने के बाद भारतीय बाजार में सर्वे किया।

योगेश जी ने अपने ब्रांड की सहायता से इन सभी चुनौतियों को खत्म करने का विचार किया। भारत आने से पहले उन्होंने USA से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। फिर Surat में आने के बाद उन्हें यहां के भारतीय बाजार में आकर पता चला कि यहां पर अंडर गारमेंट्स के लिए विकल्पों की बहुत अधिक कमी है।

उनके अनुसार साधारणतया मल्टी ब्रांड स्टोर पर पुराने और बेकार के फैब्रिक के Underwear मिलते हैं। बड़े Brand की रेंज 700 व उससे अधिक के होते हैं।  साथ ही ये भी कहा कि ऊपर के कपड़ों के मुकाबले अंडर गारमेंट्स की ज्यादा अपेक्षा रखी जाती है कि वे बेहद आरामदायक फैब्रिक वाले होने चाहिए।

वह और उनके परिवार के सभी सदस्य सूरत में फैब्रिक ब्रांड के अंडर गारमेंट्स को ऑनलाइन व आसपास की जगह में ग्राहकों को बेचने का काम करती है। इस Startup को 2017 से प्रारंभ किया गया था। उनकी कंपनी पूरे भारत से फेब्रिक का सामान खरीदकर सूरत व उसके आसपास की जगह में बेचने का काम करती है। Surat underwear startup.

योगेश के स्टार्टअप में उनकी पत्नी ने भी दिया सहयोग।

योगेश काबरा जी ने अपनी कंपनी शुरुआत करने की नींव अपने पिताजी के ऑफिस से की थी। कुछ ही समय के बाद उनकी पत्नी ने भी इस काम को पूरा करने की जिम्मेदारी ले ली। उसके बाद कुछ ही महीनों में दोनों ने मिलकर अपनी कंपनी में 10 व्यक्तियों को नौकरी में रखा जो कि इस काम को अच्छे से जानते थे उनकी पत्नी इससे पहले Axis Bank में एनालिस्ट के पद पर कार्यरत थी और उन्होंने एकाउंटिंग और फाइनेंस में मास्टर डिग्री प्राप्त की है। उनका टेक्सटाइल का व्यवसाय ही खानदानी पेशा है जिसके कारण वे और उनके परिवार के सभी सदस्य हर समय फैब्रिक और उसकी गुणवत्ता के बारे में चर्चा करते रहते हैं।

फैब्रिक और उसकी गुणवत्ता का अनुभव

फैब्रिक और उसकी गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए उनके पिताजी हर समय गंभीर रहते हैं। जिसके कारण उनको इस क्षेत्र में व्यवसाय करने की नींव रखने के लिए उनके पास उचित और पर्याप्त जानकारी का अनुभव था। एक अच्छे व्यवसाय को लंबे समय तक चलाए रखने के लिए वह अच्छे व पुराने कार्यक्रम को जोड़ने का प्रयत्न करते हैं। जिससे कंपनी और कारीगर दोनों ही तरक्की कर सकें।

Read more: मोबाइल रिपेयरिंग स्टॉल से शुरू कर बनाई 150 करोड़ का टर्नओवर करने वाली कंपनी।

अंडरवियर व्यवसाय में सही वेंडरों की जरूरत।

योगेश काबरा जी के अनुसार अंडरवियर बनाना काफी जटिल कार्य है। इस व्यवसाय में जितने भी कारीगर रखे जाते है वह सभी कम से कम 1 साल का अनुभव वाले होते है क्युकी प्रोडक्ट की गुढ़वत्ता के साथ हम सभी कोई कोम्प्रोमाईज़ नहीं करते है। भारत में जितने भी बड़े-बड़े अंडर गारमेंट्स के मैन्यूफैक्चर हैं वे अपने उत्पाद को सीधे अपने ही नाम से बेचते हैं। वे किसी भी प्रकार से थर्ड पार्टी या दलाल के साथ काम नहीं करते हैं। इन्ही कारणों की वजह से उन्हें सही वेंडरों की तलाश करना भी इस काम में काफी चुनौतियों को बड़ा देता है। उनकी कंपनी में होने वाली समस्याओं में प्रमुख Startup Minimum Order Quantity है।

उन्होंने अपनी कंपनी के अधिकतर काम शुरुवाती दिनों में हिंदुस्तानी जुगाड़ से पूरा किया। उनकी कंपनी की टीम ने  पहले निर्णय लिया कि सबसे पहले हाई स्टैंडर्ड वाली यूनिट पर काम शुरू किया जाए।

लोगों को बेस्ट फैब्रिक और टेक्सटाइल के बारे में जानकारी ना होना।

आगे योगेश जी बताते है की ब्रांड के सभी गारमेंट्स स्थानीय समुदाय की महिलाएं ही बनाती हैं। जिस आवश्यक वस्तु पर लोग ध्यान नहीं देते या सोचते नहीं हैं या उतावलापन नहीं दिखाते हैं या सही से नहीं करते हैं उस सेगमेंट के वस्तु को ऑनलाइन मार्केट में उतारना ही उनका एकमात्र उद्देश्य है। अधिकतर लोगों को तरह-तरह के फैब्रिक और टेक्सटाइल के बारे में पता नहीं होता है।

उदाहरण के लिए उनका ब्रांड अंडर गारमेंट्स के लिए Micro-Moudle फैब्रिक जो कि ऑस्ट्रिया में पाए जाने वाले बीचवुड नामक पेड़ से निकाला जाता है। इसे सामान्यतया माइक्रोबियल के नाम से जाना जाता है और यह है भारत के मौसम के बिल्कुल अनुकूल है।

Read more: एक बिज़नेस आईडिया जिसने किराने की दुकान से शुरुआत कर खड़ी की 100 करोड़ की कंपनी।

प्रॉफिट की और बढ़ता स्टार्टअप।

पिछले वर्ष 2017 के जनवरी महीने में उनकी कंपनी ने ऑनलाइन मार्केट के माध्यम से इस Brand मैं आगे आए, और कंपनी की रिपोर्ट के अनुसार उनकी कंपनी की मासिक विकास दर 50% की रही। प्रत्येक महीने उनकी कंपनी 9000 यूनिट बेचती है और ऑनलाइन मार्केट के माध्यम से 20 लाख रुपए तक का रेवेन्यू उत्पन्न कर लेती है। उनकी कंपनी के उत्पाद का मूल्य 199 रूपये से लेकर 499 तक का होता है जो कि उनकी क्वालिटी के ऊपर निर्भर होता है।

योगेश ने अपने व्यवसाय में लॉन्ज और स्लीपवियर जैसे उत्पादन को भी शामिल करने की योजना बना रहे हैं जिससे उनकी कंपनी का विस्तार हो सके और कारीगर भी उत्साह के साथ काम कर सकें।

अंडर गारमेंट्स के व्यापार में योगेश की कंपनी को कई तरह की कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करना पड़ रहा है। जिसमें चैन्नई आधारित ‘बट टॉक्स‘ नामक कंपनी जो उसके साथ बराबर की टक्कर दे रही है। परंतु इन सबके बावजूद वे अपने दढ़ निश्चय और अपने साहस के साथ अपनी कंपनी को चला रहे हैं और एक अच्छे लाभ को प्राप्त करने के लिए प्रयत्न कर रहे हैं। योगेश काबरा जी बताते है की उन्होंने जल्द ही एक दुर्लभ और बेस्ट कॉटन से बनी टी शर्ट की एक नई रेंज लॉन्च की है, जो उनके प्रॉफिट को दुगना करने में सहायक होगी। Surat underwear startup.

Read more: शेयर बाजार, जिसने राकेश झुनझुनवाला को बना दिया अरबपति।


XYXX ब्रांड के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप इनकी वेबसाइट www.xyxxcrew.com पर जा सकते है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें [email protected] पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप अपने गाँव, शहर या इलाके की प्रेरणात्मक वीडियो हमें 6397028929 पर व्हाट्सएप कर सकते हैं!


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here